बेटी की विदाई

कुछ दिन की तू , मेरे घर में मेहमान है, उड़ जाएगी संग पिया के, तेरे लिए खुला आसमान है, कुछ दिन की तू, मेरे घर में मेहमान है। महकता है तुझसे ही,मेरा ये आँगन, शमा है तू मेरे घर की, रोशन तुझसे ही, मेरा ये जहान है, कुछ दिन …