चंद्रयान

ऐ चाँद तू सच में, चितचोर है !
इसलिए ही दूर से प्यार करती तुझे चकोर है !

जो आया करीब तेरे, वो तुझ में ही समा गया !
प्राणदाता था जो चंद्रयान का, तू उसको ही रुला गया !
कोई ना पा सका तेरा, कौनसा ऐसा छोर है !
ऐ चाँद तू सच में, चितचोर है !

पतवार ही छूटी है अभी, नावँ नहीं डूबी है !
पा लेगा छोर तेरा एक दिन, भारत में ऐसी खूबी है !
बस यही चर्चा भारत की, विश्व में चहुँ ओर है !
ऐ चाँद तू सच में, चितचोर है !



Kavita Tanwani

1 /5
Based on 1 rating

Reviewed by 1 customer

  • Nice post i like it 100 %. I learn something new and challenging on sites I stumbleupon on a daily basis. Its always helpful to read through articles from other writers and use something from their web sites.

    Nice post i like it 100 %. I learn something new and challenging on sites I stumbleupon on a daily basis. Its always helpful to read through articles from other writers and use something from their web sites.

    • 3 years ago

    Gajab aunti👏👏😍😍😍😍

Leave feedback about this

  • Rating
Back to top