मासिक काव्य गोष्ठी आयोजन

जयपुर 28 अप्रेल ।जयपुर इकाई की मासिक काव्य गोष्ठे का आयोजन सुनीता त्रिपाठी की अध्यक्षता में किया गया संचलन ज्ञानवती जी ने सरस्वति बंदना सुनीता तिवारी ने की मुख्य अतिथि सुमन सुनीता मैं काव्य गोष्ठी का आगाज किया गया सुमन…

Happy Women’s Day

“Being a lady itself is a superpower. Cheerful Women’s Day to the hero in our life!” “Our reality would make no difference without ladies. Their fortitude that exists in ideal agreement with astounding delicacy saves our reality consistently. Blissful Women’s…

आजादी

आजादी

भारत हुआ आजाद हमारा हमने आजादी पाई थी ।आजादी की खातिर कितने वीरों ने अपनी जान गंवाई थी ।याद करो कुर्बानी उनकी देश को गुलामी से निजात दिलाई थी ।देश बनाया था स्वर्ग अपना विरासत अपनी बचाई थी ।भारत हुआ…

व्यथा

व्यथा

रुका रुका सा मेरा शहर मुझे अच्छा नहीं लगता ! सहमा सहमा सा हर आदमी मुझे अच्छा नहीं लगता ! दूर दूर क्यों मुझसे मेरे सारे अपने है, बंद क्यों सबकी आँखों के सपने है, खेलता कूदता था जो बच्चा,…

ये है कोरोना

डरो ना कोरोना से तुम डरो ना, आज पृथ्वी खुलकर सांस ले रही है, उस पर आज कोई गाड़ी बोझ बनकर धुआं नहीं छोड़ रही है, संग पृथ्वी के तुम भी खुश हो ना, डरो ना कोरोना से तुम डरो…

कर ले विश्वास

माना राह कठिन है तेरी, मंज़िल तुझसे दूर है, संग है तेरे अपने सारे, फिर क्यों तू इतना आतुर है ! कहदे खुलकर तू हमसे, मन में जो भी बात है, कोई भी हालात हो, हम तो तेरे साथ है,…

प्यारी प्रिया

ना जाने वो कौनसी मनहूस घड़ी थी, जब दरिंदो की नज़र उस पर पड़ी थी ! सजा कर कईं अरमान अपने दिल में वो, जन सेवा करने को डॉक्टरी भी उसने पढ़ी थी, ना जाने वो कौनसी मनहूस घड़ी थी,…

चंद्रयान

ऐ चाँद तू सच में, चितचोर है ! इसलिए ही दूर से प्यार करती तुझे चकोर है ! जो आया करीब तेरे, वो तुझ में ही समा गया ! प्राणदाता था जो चंद्रयान का, तू उसको ही रुला गया !…

सलामी

सलामी

करो सब तनकर सलाम, मेरे देश के जवानों को, डटें हैं जो समझ के घर अपना, सरहदों के मकानों को, रहें महफूज़ मेरे देश का हर कोना, महसूस करो इनके इन बयानों को, करो सब तनकर सलाम, मेरे देश के…

शहादत

आज हर हिंदुस्तानी के दिल में गम जरूर होगा| आज हर भारतीय की आँखों का कोना नम जरूर होगा| हुआ जो शहीद वतन पर, वो किसी का तो सपूत होगा| सुहाग था किसी का, किसी के आँगन की धूप था|…

Back to top